Skip to content
Email: info@maplepress.co.in | Mobile: +91 9717835777, +91 (120) 4553583
Email: info@maplepress.co.in | Mobile: +91 9717835777, +91 (120) 4553583

समाधि से राजयोग तक

Sale Sale
Original price ₹ 195.00
Original price ₹ 195.00 - Original price ₹ 195.00
Original price ₹ 195.00
Current price ₹ 175.00
₹ 175.00 - ₹ 175.00
Current price ₹ 175.00
SKU MP1255

प्रस्तुत कथानक में एक ऐसे ही धर्म गुरू की कल्पना की गई हैं जिनका धर्मगुरू बनना महज एक परिस्थितिवश संयोग होता है किन्तु वह धर्मगुरू अर्थात् मठ का महन्त बनने के बाद लोगों की मठ में धर्म एवं महन्त के रूप में स्वयं में आस्था की शक्ति को मात्र प्रवचन दर्शन प्रसाद भंडारे पूजा पाठ तक सीमित नहीं रखते हैं। अपितु श्रद्धालुओं की अपार आस्था व श्रद्धा की शक्ति का उपयोग करके वह न मात्र सक्रिय अपितु प्रत्यक्ष रूप से देश व प्रदेश की राजनीति में अपनी व अन्य धर्मगुरूओं की उपस्थिति दर्ज कराते हैं और राजनीति के माध्यम से अपने श्रद्धालुओं व आस्था रखने वालों की सरकार से अपेक्षा को न मात्र पूरा करते हैं अपितु अपनी कार्यशैली से धर्म और राजनीति के गठजोड़ के आलोचकों को निःशब्द कर देते हैं।

Author
Amitabh Kumar

Age Group
15+ Years

Language
Hindi

Number Of Pages
376